Major Wildlife Sanctuaries in Uttar Pradesh

Major Wildlife Sanctuaries in Uttar Pradesh

उत्तर प्रदेश के प्रमुख वन्यजीव अभयारण्य

भारतीय उप-महाद्वीप न केवल अपनी सांस्कृतिक विविधता के लिए जाना जाता है बल्कि यहाँ पर वनस्पतियों और जीवों की विविध प्रजातियाँ भी पाई जाती हैं। इसलिए उनके संरक्षण के लिए 500 से अधिक प्राणी अभयारण्य स्थापित किये गए हैं। इस लेख में हमने उत्तर प्रदेश के वन्यजीव अभ्यारण्यों की सूची दिया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CTET, NTPC, UPLEKHPAL, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।

Major Wildlife Sanctuaries in Uttar Pradesh

वन्यजीव अभ्यारण में जानवरो को उनकी रक्षा , उनके पर्यावरण की सुरक्षा के लिए रखा जाता है |

– वन्यजीव अभ्यारण संख्या : 599
– वन्यजीव संरक्षण अधिनियम : 1972


उद्देश्य :

वन्यजीवो की सुरक्षा और संरक्षण के साथ – साथ पुरे पारितंत्र की रक्षा करना |

इस अधिनियम के अंतर्गत 1983 में राष्ट्रीय वन्यजीव कार्य योजना की शुरुआत की इसका उद्देश्य जैव विविधता का संरक्षण करना |



** उत्तर प्रदेश की नदियाँ (Rivers of Uttar Pradesh)

सबसे प्राचीन राष्ट्रीय उद्यान –

हैले या जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान – 1936 नैनीताल ( उत्तराखंड )


राष्ट्रीय उद्यान :

राष्ट्रीय उद्यान में जानवरो की रक्षा, उनके पर्यावरण की सुरक्षा के लिए रखा जाता है | लेकिन राष्ट्रीय उद्यान में मानव के क्रियाकलापों पर प्रतिबन्ध है |
राष्ट्रीय उद्यानों की संख्या : 104 है |
जीवमण्डल निचय सबसे बड़ा क्षेत्र होता है और इसमें मानवीय क्रियाकलापों पर बहुत ही कम प्रतिबंध होता है |
जीवमण्डल निचय की संख्या : 18 है |

उत्तर प्रदेश में 1 राष्ट्रीय उद्यान , 11 वन्यजीव अभ्यारण, 13 पक्षी विहार और 2 प्राणी उद्यान है |

1- हस्तीनापुर वन्यजीव अभयारण्य

स्थान: अमरोहा, बिजनौर, गाजियाबाद, मेरठ और मुजफ्फरनगर

इसकी स्थापना 1986 में हुई थी और प्राचीन शहर हस्तीनापुर के नाम पर रखा गया था। पक्षियों की 350 से अधिक प्रजातियां मिलती हैं, जिनमें महान भारतीय सींग वाले उल्लू, जंगली उल्लू, रंगीन कठफोड़वा (हुदहुद), बार्बेट, किंगफिशर, मिनीवेट , मधुमक्खी खाने वाला पक्षी और बुलबुल मुख्य हैं।

2- राष्ट्रीय चंबल वन्यजीव अभयारण्य

स्थान: आगरा और इटावा जिलों

यह उत्तरी भारत में गंभीर रूप से लुप्तप्राय घारियल, लाल ताज वाली छत कछुए और लुप्तप्राय गंगा नदी डॉल्फ़िन की सुरक्षा के लिए त्रि-राज्य संरक्षित क्षेत्र है।

3- महावीर स्वामी अभयारण्य

स्थान: ललितपुर जिला

यह तेंदुए, नीलगाई, जंगली सूअर, सांभर, काला हिरन, नीला बैल, भालू, जैकल्स, लंगूर और बंदरों का घर है।

4- रानीपुर अभयारण्य

स्थान: बांदा और चित्रकूट जिलों

इसकी स्थापना 1977 में हुई थी। यह बाघ, तेंदुए, स्लॉथ भालू, सांभर, ब्लैकबक, पेफौल, स्पूर फाउल, जंगल फॉउल, पेंटेड पार्ट्रिज, फिशिंग बिल्ली और चिंकारा का घर है।

5- चंद्र प्रभा वन्यजीव अभयारण्य

स्थान: चंदौली जिला

इसकी स्थापना मई 1957 में किया गया था। यह खूबसूरत पिकनिक स्पॉट है, जो घने जंगलों और प्राकृतिक झरना जैसे राजधारी और देवदारी से घिरा हुआ है। इसे एशियाई शेरों के वास के रूप में भी जाना जाता है। बरसात के मौसम में झरने अभयारण्य के हरे-भरे पर्यावरण में अद्भुत दृश्य देखने को मिलते हैं। कई गुफाओं और पहाड़ों के साथ यह मनोरंजक यात्रा के लिए एक आदर्श जगह है। यहाँ तेंदुए, काला हिरण, चीतल, सांभर, जंगली सुअर, जंगली बिल्लियों और जंगली लोमड़ी जीव पाए जाते हैं।

6. सोहागी बरवा अभयारण्य

स्थान: महाराजगंज जिला

यह उत्तर प्रदेश में बाघ के निवासों में से एक है। टाइगर, तेंदुए, चीटल, भालू, जंगली बिल्ली, जंगली सूअर और पायथन यहां पाए जाते हैं।

7. पटना पक्षी अभयारण्य

स्थान: एटा जिला

इसकी स्थापना 1991 में हुई थी। यह प्रवासी और निवासी पक्षियों की 106 से अधिक प्रजातियां आश्रय देता है।

8. कैमूर अभयारण्य

स्थान: मिर्जापुर और सोनभद्र

यह 1982 में स्थापित किया गया था। यह अभयारण्य तेंदुए, ब्लैकबक, चीतल, चिंकारा, चूहे, पेफौल, एंटेलोप, ब्लू बैल, जंगली बिल्ली, कराकल और बिजू के लिए प्रसिद्ध है।

9. कचुआ अभयारण्य

स्थान: वाराणसी

यह अभयारण्य कछुए, गंगा डॉल्फ़िन और अन्य जल जानवरों की विभिन्न प्रजातियों के लिए प्रसिद्ध है।

10. सुहेल्वा अभयारण्य

स्थान: बलरामपुर, गोंडा, और श्रवस्ती जिलों

यह उत्तर प्रदेश के सबसे पुराने जंगलों में से एक में स्थित है और 1998 में वन्यजीव अभयारण्य की उपाधि दी गयी थी। यहां बंगाल बाघ, भारतीय तेंदुए, सुस्त भालू, एंटीलोप और हिरण जैसे स्तनधारी पाए जाते हैं। अन्य जानवरों में लोमड़ी, हिना, भारतीय हाथी और जंगली बिल्ली भी शामिल हैं।

11. किशनपुर वन्यजीव अभयारण्य

स्थान: लखीमपुर खेरी

इसकी स्थापना 1972 में हुई थी। यह टाइगर, तेंदुए, स्वैप हिरण, होग हिरण, बार्किंग हिरण, बंगाल फ्लोरिकन और लेसर फ्लोरिकन जैसी कई प्रजातियों का घर है।

12. कटरणियाघाट वन्यजीव अभयारण्य

स्थान: बहराइच जिला

यह 1975 में स्थापित किया गया था। इसे 1987 में इसे और किशनपुर वन्यजीव अभयारण्य के साथ के ‘परियोजना टाइगर’ दायरे में लाया गया था। यह घरियल, बाघ, गैंडो, गंगाटिक डॉल्फ़िन, दलदल हिरण, हर्पीड हरे, बंगाल फ्लोरिकन, सफेद समर्थित और गिद्ध जैसे कई लुप्तप्राय प्रजातियों का घर है।

13. बखिरा अभयारण्य

स्थान: संत कबीर नगर

इसको 1980 में स्थापित किया गया था। ग्रे-हेडिंग स्विम्पेन (पोर्फिरियो पोलिओसेफलस) जिसे भारतीय बैंगनी मुरहेन या बैंगनी स्वैम्प-हेन भी कहा जाता है, इस अभयारण्य में पाए जाने वाले खूबसूरत जल पक्षियों में से एक है।

14. लाख बहोसी अभयारण्य

स्थान: कन्नौज जिला

यह भारत के बड़े पक्षी अभयारण्यों में से एक है, जिसमें 80 वर्ग किमी शामिल है। यह विभिन्न प्रवासी पक्षियों का घर है। जैकल, ब्लू बैल, मोंगोज़, मछली पकड़ने वाली बिल्ली और बंदर भी यहां पाए जाते हैं।

15. नवाबगंज पक्षी अभयारण्य

स्थान: उन्नाव जिला

यह अभयारण्य प्रवासी पक्षियों की 250 प्रजातियों जैसे ग्रेलीग हंस, पिंटेल, कपास टील, लाल क्रीस्टेड पोकार्ड, गैडवॉल, शोवेलर, कुट, मल्लार्ड, सरस क्रेन, पेंट स्टॉर्क, पेफौल, व्हाइट इब्स, डैबिक, व्हिस्लिंग टील, ओपन- बिल स्टॉर्क, सफेद गर्दन वाली छाल पक्षी, फिजेंट-पूंछ जैकाना, कांस्य पंख वाला जाकाना, बैंगनी मुरहेन, लैपिंग, टर्न, गिद्ध, कबूतर, राजा कौवा, भारतीय रोलर और मधुमक्खी खाने वाला पक्षी।  कोबरा, वाइपर, क्रेट, रैट्सकेक और पानी के सांप भी पाए जाते हैं।

16. ओखला अभयारण्य

स्थान: गाजियाबाद और गौतम बुद्ध नगर

1990 में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के तहत इसे संरक्षित क्षेत्र घोषित किया गया था। यह अभयारण्य भारतीय उपमहाद्वीप में दर्ज 1200 से 1300 पक्षी प्रजातियों में से 30% का आश्रय देता है।

17. पार्वती अर्गा पक्षी अभयारण्य

स्थान: गोंडा जिला

इसे 23 मई 1990 को एक पक्षी अभयारण्य घोषित किया गया था। यह 2 प्रजातियों और 3 परिवारों से संबंधित 152 प्रजातियों और 57 परिवारों, और तीन 3 प्रजातियां पाइरिटोफाइट्स से संबंधित एंजियोस्पर्म की 212 प्रजातियों का घर है।

18. समन अभयारण्य

स्थान: मेनपुरी जिला

यह 1990 में स्थापित किया गया था। यह जैकल, मोंगोस, हरे और विभिन्न स्थानीय और प्रवासी पक्षियों जैसे विभिन्न जानवरों का घर है।

19. समसपुर अभयारण्य

स्थान: रायबरेली जिला

यह 1987 में स्थापित किया गया था। ग्रीलाग गुज़, पिंटेल, कॉमन टील, यूरेशियन विजन, उत्तरी शॉवेलर, रुडी शेल्डक (सुरखब), नोब-बिल डक, लेसर व्हिस्लिंग-डक, इंडियन स्पॉट-बिल डक, यूरेशियन चम्मच-बिल, किंगफिशर, गिल्चर प्रवासी पक्षी यहां प्राकृतिक आवास के लिए आते हैं।

20. सैंडी पक्षी अभयारण्य

स्थान: हरदोई

इसकी स्थापना 1990 में स्थानीय निवासियों और प्रवासी पक्षियों के लिए प्राकृतिक आवास और जलीय वनस्पति की रक्षा के लिए की गई थी।

21. सुर सरोवर अभयारण्य

स्थान: आगरा जिला

इसे केथम झील अभयारण्य के रूप में भी जाना जाता है। यह प्रवासी और निवासी पक्षियों की 106 से अधिक प्रजातियों का घर है। यह अभयारण्य केथम झील में रहने वाले जलीय पक्षियों के लिए भी प्रसिद्ध है: लिटिल गेर्ब्स, कॉर्मोरेंट्स, डार्टर, ग्रे हेरॉन, बैंगनी हेरॉन, पैडी बर्ड, मवेशी एग्रेट्स, लार्ज एग्रेट्स, स्मॉलर एग्रेट्स, लिटिल एग्रेट्स, नाइट हेरॉन, इंडियन रीफ हेरॉन, ब्लैक गर्दन स्टॉर्क, व्हाइट इब्स, स्पॉन बिल, ग्रेइंग गुज़, बार गुज़, कम व्हिस्लिंग।

22. सूरहा ताल अभयारण्य

स्थान: बलिया

यह प्रवासी और देशी पक्षियों की विविधता के लिए प्रसिद्ध है। इसे 1991 में एक पक्षी अभयारण्य घोषित किया गया था।

23. विजई सागर अभयारण्य

स्थान: महोबा

इसकी स्थापना 1990 में हुई थी। जैकल, मोंगोस, वाइल्डकैट और यहां विभिन्न स्थानीय और प्रवासी पक्षियों को आश्रय देता है।

उत्तर प्रदेश में प्राणी उद्यान

1- लायन सफारी पार्क – इटावा
2- बब्बर शेर प्रजनन केंद्र – इटावा

उत्तर प्रदेश में बाघ संरक्षण केंद्र :

1- दुधवा – लखीमपुर खीरी
2- अमानगढ़ – बिजनौर
3- पीलीभीत – पीलीभीत

उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय उद्यान :

दुधवा राष्ट्रीय उद्यान –

इसकी स्थापना 1968 में लखीमपुर खीरी में हुई |
पहले नाम – दुधवा पशु विहार
1977 में दुधवा राष्ट्रीय उद्यान कर दिया गया




Please follow and like us:

By Rodney

I’m Rodney D Clary, a web developer. If you want to start a project and do a quick launch,I am available for freelance work.

Leave a Reply